National  News 

देश के लिए सबसे जरूरी काम जाति आधारित गणना:राहुल गाँधी

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बोले, जैसे ही केंद्र में हमारी सरकार आएगी,देश के लिए सबसे जरूरी काम जाति आधारित गणना होगा पहला काम! राहुल गाँधी 

राहुल गांधी ने साथ ही कहा कि जिस दिन आदिवासियों और दलितों को भी यह बात समझ में आ गई कि हमारी आबादी क्रमशः 12 और 15 प्रतिशत है, लेकिन हमारी भागीदारी एक और तीन व्यक्ति तक ही सीमित है उस दिन से देश में परिवर्तन दिखने लगेगा. गांधी ने आरोप लगाया कि आज दो हिंदुस्तान बन गए हैं, जिसमें एक तो अरबपतियों का हिंदुस्तान जहां 14 लाख करोड़ रुपए माफ हो गए और वहीं दूसरा जहां बीजेपी शासित किसी भी राज्य में किसान कर्ज माफ करने की बात करते हैं तो उन्हें लाठी खानी पड़ती है.

वहीं दौसा में जनसभा में भी गांधी ने यही मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी यह पता नहीं लगाना चाहते कि इस देश में पिछड़ों की संख्या कितनी है. मैंने संसद में जाति आधारित गणना का सवाल उठाया कि हम सचमुच में ‘भारत माता की जय’ करना चाहते हैं तो हमें सबसे पहले पता लगाना पड़ेगा कि इस देश में किसकी कितनी आबादी है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन उस दिन के बाद से नरेन्द्र मोदी ने भाषण बदल दिया. पहले प्रधानमंत्री मोदी अपने हर भाषण में कहते थे कि मैं ओबीसी हूं, लेकिन उसके बाद वह कहते हैं कि हिंदुस्तान में कोई जात नहीं है, सिर्फ गरीब हैं.’’ कांग्रेस नेता ने कहा कि ‘‘नरेन्द्र मोदी की नीति में एक रुपया पिछड़ों को नहीं जाता. एक रुपया दलितों को नहीं जाता, एक रुपया आदिवासियों को नहीं जाता. हमारी नीति चाहे मनरेगा, चाहे किसान कर्ज माफी हो और चाहे भोजन का अधिकार हो. हमारा कम से कम 50 प्रतिशत पैसा अति पिछड़ा वर्ग OBC को जाता है.

कांग्रेस नेता ने रविवार को राजस्थान के बूंदी और दौसा में चुनावी जनसभाएं की और सत्तारूढ़ कांग्रेस के उम्मीदवारों को जिताने की अपील की. उन्होंने कहा कि यदि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) राज्य की सत्ता में आई तो वह कांग्रेस की सभी जनकल्याणकारी योजनाओं को बंद कर देगी.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी पर निशाना साधते हुए उन पर उद्योगपतियों के हित में काम करने का आरोप लगाया. उन्होंने जाति आधारित गणना को लेकर भी प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ भी हो जाए प्रधानमंत्री मोदी जाति आधारित गणना नहीं करा सकते और यह काम कांग्रेस ही करा सकती है.

राहुल गांधी ने कहा, इस देश के लिए सबसे जरूरी काम जाति आधारित गणना है, जिस दिन जाति आधारित गणना हो जाएगी, उस दिन दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा. उन्होंने कहा कि मोदी 90 आईएएस अधिकारियों के साथ देश चला रहे हैं, लेकिन उनमें ओबीसी का प्रतिनिधित्व सिर्फ तीन है.

कांग्रेस नेता ने रविवार को राजस्थान के बूंदी और दौसा में चुनावी जनसभाएं की और सत्तारूढ़ कांग्रेस के उम्मीदवारों को जिताने की अपील की. उन्होंने कहा कि यदि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) राज्य की सत्ता में आई तो वह कांग्रेस की सभी जनकल्याणकारी योजनाओं को बंद कर देगी. राज्य में विधानसभा चुनाव के लिए 25 नवंबर को मतदान होना है.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि जिस दिन जाति आधारित गणना हो गई और इस देश के पिछड़ों को यह बात समझ आ गई कि हम 50 प्रतिशत हैं और हमें पांच प्रतिशत की भागीदारी मिल रही है, उस दिन यह देश बदल जाएगा. साथ ही, उन्होंने कहा कि जिस दिन आदिवासियों और दलितों को भी यह बात समझ में आ गई कि हमारी आबादी क्रमशः 12 और 15 प्रतिशत है, लेकिन हमारी भागीदारी एक और तीन व्यक्ति तक ही सीमित है उस दिन से देश में परिवर्तन दिखने लगेगा.

जैसे ही केंद्र में हमारी सरकार आएगी, उस दिन मैं आपको गारंटी देकर कह रहा हूं जाति आधारित गणना उस दिन शुरू हो जाएगी. आपको पता लग जाएगा कि आपकी कितनी आबादी है और आपका हक कितना बनता है. 

गांधी ने आरोप लगाया कि आज दो हिंदुस्तान बन गए हैं, जिसमें एक तो अरबपतियों का हिंदुस्तान है, जहां 14 लाख करोड़ रुपए माफ हो गए और वहीं दूसरा जहां भाजपा शासित किसी भी राज्य में किसान कर्ज माफ करने की बात करते हैं तो उन्हें लाठी खानी पड़ती है.

वहीं, दौसा में एक जनसभा में भी गांधी ने यही मुद्दा उठाते हुए कहा, प्रधानमंत्री मोदी यह पता नहीं लगाना चाहते कि इस देश में पिछड़ों की संख्या कितनी है. उन्होंने कहा, मैंने संसद में जाति आधारित गणना का सवाल उठाया कि हम सचमुच में ‘भारत माता की जय' करना चाहते हैं तो हमें सबसे पहले पता लगाना पड़ेगा कि इस देश में किसकी कितनी आबादी है.

राहुल गांधी ने कहा कि पहले प्रधानमंत्री मोदी अपने हर भाषण में कहते थे कि मैं ओबीसी हूं, लेकिन उस दिन के बाद से उन्होंने अपना भाषण बदल दिया. उसके बाद वह कहते हैं कि हिंदुस्तान में कोई जात नहीं है, सिर्फ गरीब हैं.

कांग्रेस नेता ने लोगों से पार्टी के प्रत्याशियों को जिताने की अपील की. उन्होंने कहा कि अगर भाजपा सरकार आई तो वह उन्हें मिल रहे मौजूदा सारे लाभ छीन लेगी. उन्होंने कहा, मैं आपको गारंटी जाति आधारित गणना की दे रहा हूं, जिससे पिछड़ों, दलितों और आदिवासियों को भागीदारी मिलेगी.

राहुल गांधी ने कहा, जैसे ही केंद्र में हमारी सरकार आएगी, उस दिन मैं आपको गारंटी देकर कह रहा हूं जाति आधारित गणना उस दिन शुरू हो जाएगी. आपको पता लग जाएगा कि आपकी कितनी आबादी है और आपका हक कितना बनता है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि नरेन्द्र मोदी की नीति में एक रुपया पिछड़ों को नहीं जाता, एक रुपया दलितों को नहीं जाता, एक रुपया आदिवासियों को नहीं जाता. हमारी नीति चाहे मनरेगा, चाहे किसान कर्ज माफी हो और चाहे भोजन का अधिकार हो, हमारा कम से कम 50 प्रतिशत पैसा अति पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) को जाता है.

राजस्थान सरकार की सात गारंटियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने आपको सात गारंटी दी है, हम दो हिंदुस्तान नहीं चाहते. गांधी ने अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि राजस्थान सरकार ने राज्य में अंग्रेजी माध्यम के स्कूल खोले हैं ताकि गरीबों, किसानों, मजदूरों के बच्चे उनमें पढ़ें.

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि भाजपा नहीं चाहती कि गरीबों के बच्चों को अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा मिले. ‘‘आप अमित शाह (केंद्रीय गृह मंत्री) से पूछें कि उनके बेटे ने किस माध्यम से पढ़ाई की है.

धौलपुर की बाड़ी सीट से मौजूदा कांग्रेस विधायक गिर्राज मलिंगा के प्रकरण का जिक्र करते उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने एक दलित को पीटने वाले राजस्थान के अपने इस विधायक को चुनाव में टिकट नहीं दिया, लेकिन भाजपा ने उन्हें तुरंत अपनी पार्टी में लेकर टिकट दिया, जो भाजपा की सोच को दिखाता है.



Posted By:Surendra yadav






Follow us on Twitter : https://twitter.com/VijayGuruDelhi
Like our Facebook Page: https://www.facebook.com/indianntv/
follow us on Instagram: https://www.instagram.com/viajygurudelhi/
Subscribe our Youtube Channel:https://www.youtube.com/c/vijaygurudelhi
You can get all the information about us here in just 1 click -https://www.mylinq.in/9610012000/rn1PUb
Whatspp us: 9587080100 .
Indian news TV