National News 

तेलंगाना में डॉक्टर की गैंगरेप और हत्या के आरोपियों के परिवार ने बहुत बड़ी बात बोली है

हैदराबाद में वेटनरी डॉक्टर की गैंगरेप के बाद जलाकर हत्या के मामले में कोर्ट ने चारों आरोपियों को जेल भेज दिया है. इस हैवानियत से पूरा देश गुस्से में है. सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक लोग इंसाफ की मांग कर रहे हैं. दोषियों के लिए ऐसी सजा की मांग कर रहे हैं जो इस तरह की हैवानियत करने वालों के लिए नजीर बने. 30 नवंबर यानी शनिवार को भीड़ ने शादनगर थाना घेर लिया. वो इन आरोपियों को भीड़ के हवाले करने की मांग कर रही थी. पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. भीड़ के गुस्से के चलते पुलिस आरोपियों को कोर्ट नहीं ले जा सकी. इसके बाद थाने में ही अदालत लगी. चारों आरोपियों को 14 दिन के लिए जेल भेज दिया गया है. इस मामले में पुलिस ने मोहम्मद आरिफ, जोलू शिवा, जोलू नवीन और चिंताकुंता केशावुलु को गिरफ्तार किया था.

ANI@ANI

: Police lathicharged on locals who hurled slippers on police outside Shadnagar police station, where the accused in rape&murder case of the woman veterinary doctor were lodged earlier today. Accused have been shifted to Chanchalguda Central Jail.

Embedded video

591

6:31 PM - Nov 30, 2019

Twitter Ads info and privacy

350 people are talking about this


वहीं दूसरी ओर इस मामले में लापरवाही बरतने के लिए तीन पुलिसवालों को सस्पेंड किया गया है. साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनार ने कहा, ’27-28 नवंबर की रात को एक महिला लापात हुई. इस मामले में एफआईआर दर्ज करने में देरी हुई. जांच के बाद सब इंस्पेक्टर एम. रवि कुमार, हेड कॉन्स्टेबल पी. वेणुगोपाल रेड्डी और हेड कॉन्स्टेबल ए. सत्यनारायण गौड़ को सस्पेंड कर दिया गया है.

डॉक्टर की गैंगरेप के बाद हत्या के आरोपियों के परिवार का कहना है कि अगर उनके बेटों को फांसी की सजा मिलती है तो वे इसका विरोध नहीं करेंगे. चारों आरोपियों में से एक चिंताकुंता केशावुलु की मां ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा,

उसे फांसी दे दीजिए या जला दीजिए, जैसा उन लोगों ने डॉक्टर के साथ किया. उसका रेप करने के बाद. मेरी भी एक बेटी है और मुझे पता है कि डॉक्टर का परिवार किस दर्द से गुजर रहा है. अगर ये पता होने के बावजूद कि मेरे बेटे ने जघन्य अपराध किया है, में उसका बचाव करूंगी तो लोग मुझसे पूरी जिंदगी नफरत करेंगे.

आरोपी की मां ने बताया कि 28 नवंबर को जब पुलिस उनके बेटे को पूछताछ के लिए लेकर गई तो उनके पति ने हताश होकर घर छोड़ दिया.

आरोपी केशावुलु की मां ने बताया कि पांच महीने पहले ही उसकी शादी हुई थी. उसकी पसंद की लड़की से शादी कराई. घर पर कभी कोई दबाव नहीं डाला गया, क्योंकि उसे किडनी की बीमारी है. हम उसे हर 6 महीने पर इलाज के लिए हैदाराबाद के निम्स अस्पताल ले जाते थे.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले का मुख्य आरोपी मोहम्मद आरिफ की मां  ने बताया कि आरिफ गैंगरेप और हत्या की इस घटना को अंजाम देने के बाद घर आया था. उसने मुझे बताया कि उसकी गाड़ी से ऐक्सिडेंट में एक लड़की की मौत हो गई. उसके पिता ने कहा कि उन्हें उसके अपराध के बारे में कुछ नहीं पता था. वह जिस सजा के लायक है उसे वह मिलनी चाहिए. आरिफ की मां ने बताया कि बाकी तीनों आरोपी अक्सर उनके घर आते थे. दो अन्य आरोपियों शिवा और नवीन के परिवार वालों ने भी कानून के अनुसार सजा की मांग की है.

दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया.

दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया.

पुलिस के मुताबिक, आरोपियों ने पहले महिला डॉक्टर को किडनैप किया. इसके बाद चारों लोगों ने मिलकर उसके साथ गैंगरेप किया. इसके बाद गला घोंटकर हत्या कर दी. पुलिस ने बताया कि हैदराबाद के बाहरी इलाके शमशाबाद में टोंडुपल्ली टोल प्लाजा के पास महिला डॉक्टर के साथ गैंगरेप किया गया. फिर उसके शव को कई किलोमीटर दूर लेजाकर रंगा रेड्डी जिले के एक पुल के नीचे पेट्रोल छिड़कर जला दिया.

बता दें कि 28 नवंबर की सुबह एक लड़की की जली हुई लाश मिली थी. 27 नवंबर की रात करीब 9 बजकर 22 मिनट पर डॉक्टर ने अपनी छोटी बहन को फोन किया. उसने बताया कि उसकी स्कूटी का टायर पंक्चर हो गया है. उसने बताया कि दो अजनबियों ने उसे मदद भी ऑफर की थी. लेकिन टायर रिपेयर नहीं हो सका. ये भी बताया कि वो एक ऐसी जगह पर है जहां कई सारे ट्रक ड्राइवर्स हैं और वो डरी हुई है. उसकी बहन ने उससे कहा कि वो तुरंत ही पास के टोल प्लाजा पर पहुंच जाए, वहां वो सुरक्षित रहेगी. इसके बाद महिला डॉक्टर की किसी से बात नहीं हुई. 28 नवंबर की सुबह महिला डॉक्टर की जली हुई लाश मिली थी.



Reported By:ADMIN
Indian news TV