Business News 

15 दिन में एक ही परिवार के 4 लोगों की मौत, अब सिर्फ एक दिन का बच्चा जिंदा बचा है

तेलंगाना में एक ज़िला है मंचेरियल. यहां डेंगू की चपेट में आने से 15 दिनों के अंदर एक परिवार के चार लोगों की मौत हो गई. केवल एक दिन का नवजात बच्चा अकेला ज़िंदा बचा है. जो अब पूरी तरह से अकेला है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, तेलंगाना में इस वक्त डेंगू का कहर छाया हुआ है. आए दिन कई लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं. लोगों की मौतें हो रही हैं. मंचेरियल का ये परिवार भी इस बुखार का शिकार हुआ. पहली मौत हुई नवजात बच्चे के पिता जी. राजगट्टू की.

राजगट्टू 30 साल का था. उसे पिछले कई दिनों से लगातार बुखार रह रहा था. ट्रीटमेंट करवाने पर पता चला कि उसे डेंगू है. लेकिन इलाज के बाद भी वो बच नहीं सका और 16 अक्टूबर के दिन प्राइवेट अस्पताल में उसकी मौत हो गई. दूसरी मौत हुई जी. राजगट्टू के पिता लिंगाय की. जो 70 साल के थे. उन्हें भी लगातार बुखार आ रहा था. डेंगू का पता चलने पर इलाज हुआ, लेकिन बच नहीं सके. और 20 अक्टूबर के दिन मौत हो गई.

तीसरी मौत हुईह राजगट्टू की 6 साल की बेटी श्री वर्षिनी की. उसे भी डेंगू ने जकड़ लिया था. इलाज चल रहा था. परिवार लगातार दो मौत के सदमे से उबर भी नहीं पाया था, कि दिवाली वाले दिन, यानी 27 अक्टूबर के दिन वर्षिनी की भी मौत हो गई.

राजगट्टू की 29 साल की पत्नी सोनी प्रेगनेंट थी. घर पर तीन मौत के सदमे से वो टूट चुकी थी. डेंगू ने उसे भी अपनी गिरफ्त में ले लिया. उसे भी तेज बुखार आ गया. बेहतर इलाज के लिए सोनी को हैदराबाद के अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां उसने 29 अक्टूबर के दिन एक हेल्दी बच्चे को जन्म दिया. लेकिन डेंगू के तेज बुखार की वजह से 30 अक्टूबर के दिन सोनी की भी मौत हो गई. अब एक दिन का बच्चा अकेला है. उसका पूरा परिवार महज 15 दिन के अंदर खत्म हो गया.

तेलंगाना में डेंगू का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. हाईकोर्ट ने पहले ही सरकार को चेतावनी दी थी. और डेंगू के कहर को रोकने के लिए जरूरी कदम उठाने को कहा था.



Reported By:ADMIN
Indian news TV