National News 

ईश्वर को पुकारें स्तोत्र, चालीसा, प्रार्थनाओं से - होगा उद्धार

स्तोत्र

स्तोत्र एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है- कसीदा, स्तवन अथवा प्रशंसनात्मक ऋचाएं, स्तोत्र प्रार्थना के रूप में अथवा वर्णनात्मक अथवा बातचीत के रूप में हो सकता है किंतु इसकी संरचना काव्यात्मक ही होती है। यह सामान्य कविता हो सकती है जिसमें किसी देवी अथवा देवता की प्रसंशा की गयी हो अथवा उनके प्रति व्यक्तिगत भक्ति को प्रदर्शित किया गया हो। अनेक स्तोत्र की ऋचाएं देवी, शिव अथवा विष्णु के विभिन्न पहलुओं की प्रशंसा हेतु सृजित हैं।

सुप्रभातम

ईश्वर को जगाने हेतु आहवान करना सुप्रभातम कहलाता है। सामान्यतः यह एक छोटी स्तुति के रूप में होती है जिसे अहले सुबह गाया जाता है।

अष्टकम एवं चालीसा

अष्टकम एवं चालीसा में निश्चित संख्या में दोहे होते हैं। अष्टकम में आठ श्लोक होते हैं किंतु चालीसा प्रमुखतः हिन्दी प्रार्थना है तथा इसमें चालीस दोहे होते हैं।

ध्यानम् एवं अर्चनम्

ध्यानम् एवं अर्चनम् प्रार्थना नहीं हैं, ये पूजा के प्रकार हैं। ध्यानम् का तात्पर्य साधना एवं अर्चनम का अर्थ पूजा करना होता है जैसा कि शास्त्रों में उल्लेख है। लक्ष्मी ध्यानम अथवा देवी अर्चनम में देवी लक्ष्मी से संबंधित प्रार्थनाओं एवं पूजा पद्धति के समुह हैं जिनका उपयोग आप साधना के वक्त अथवा देवी लक्ष्मी की पूजा के वक्त कर सकते हैं।

प्रार्थना

प्रार्थना एक ऐसा कृत्य है जिसमें पूजा की वस्तु का जबर्दस्ती संवाद के द्वारा आहवान किया जाता है। प्रार्थना व्यक्तिगत अथवा सामुहिक हो सकता है तथा इन्हें सार्वजनिक स्थल पर अथवा निजी स्थान पर आयोजित किया जा सकता है। इसमें शब्दों, गानों को समाविष्ट किया जा सकता है अथवा प्रार्थना बिल्कुल मौन रखकर भी किया जा सकता है। प्रार्थना किसी देवी देवता भूत-प्रेत, मृत व्यक्ति आदि को निर्दिष्ट किये जा सकते हैं जिसका उद्देश्य उनकी पूजा करना, निर्देश के लिए अनुरोध करना, उनकी सहायता हेतु विनय करना अथवा उनसे अपने द्वारा किये गये अपराध हेतु अपने विचार एवं भावनाओं का प्रदर्शन कर क्षमा प्रार्थना करना है।

माला

मालाओं का प्रयोग विभिन्न मंत्रोच्चारण करने के लिए किया जाता है। मालाओं में विशेष रूप से 108 मनकों का प्रयोग करने का विधि-विधान है क्योंकि : ऋषि या द्रष्टा यह भी कहते हैं कि माला के 108 मनके हमें हर तरह की सिद्धि प्राप्त कराते हैं। अंकशास्त्र के मुताबिक 108 का अंक सिद्धिदायक माना जाता है। जप माला में 108 मनकों का विधान दिया गया है।

स्फटिक

स्फटिक प्रकाश और ऊर्जा का एक शक्तिशाली माध्यम है। यह परिवर्तक व विस्तारक / वर्द्धक के रूप में विभिन्न ऊर्जाओं को जैव ऊर्जाओं में परिवर्तित करके हमारे शरीर तंत्र / शारीरिक संरचना को संतुलित करते हैं व कोशिकीय, भावनात्मक, मस्तिष्कीय व आध्यात्मिक स्तर पर पुनः ऊर्जावान् बनाते हैं।

शंख

पुराणों में शंख को शुभता का प्रतीक माना गया है इसलिए पूजा-अर्चना व मांगलिक कार्यों पर शंख ध्वनि की विशेष महता है। शंख के ऊर्जा चक्र व ध्वनि के प्रभाव से ईश्वर ध्यान में पुजारी को सर्प इत्यादि खतरनाक जीव बाधा नहीं पहुंचाते तथा बुरी आत्माएं दूर भागती हैं साथ ही इसके अनेक सौभाग्यदायक, अनिष्ट शमन कारक व औषधीय गुण लोक प्रसिद्ध हैं।

भारतीय वैज्ञानिकों के अनुसार शंख ध्वनि कंपनों से वातावरण में रहने वाले सभी कीटाणु पूर्णतया नष्ट हो जाते हैं तथा प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग से बचाव हो सकता है व ओजोन लेयर के सुराख भर सकते हैं। शंख बजाने से बजाने वाले के अंदर साहस, दृढ़ इच्छा शक्ति, आशा व शिक्षा जैसे गुणों का संचार होता है तथा श्वांस रोग, अस्थमा व फेफड़ों के रोगों में आराम मिलता है।

 

पारद शिवलिंग

पारद् शिवलिंग की पूजा करके हमें शिवजी का आशीर्वाद तुरंत प्राप्त होता है क्योंकि पारद शिवलिंग की पूजा से हजार करोड़ शिवलिंगों की पूजा का फल प्राप्त होता है। शिव पुराण में पारे को शिव का पौरुष कहा गया है। इसके दर्शन मात्र से पुण्यफल की प्राप्ति होती है। यही कारण है कि शास्त्रों में इसे अत्यंत महत्व दिया गया है।

 

अंगूठी

यह माना जाता है कि अंगूठियों का हमारे ऊपर रहस्यमयी प्रभाव होता है। जब रत्न हमारी उंगली को स्पर्श करता है तो हमारे अंदर अनुकूल ऊर्जा का प्रवाह करता है जिसका सीधा प्रभाव हमारे मस्तिष्क पर होता है चूंकि हमारी उंगलियों की स्नायु का संबंध सीधे मस्तिष्क से होता है।

 

पिरामिड

पिरामिड उपयुक्त स्थान पर स्थापित करने से, भूमि व भवन के ऊर्जा क्षेत्र को सकारात्मक (बलशाली व जैव-ऊर्जा में परिवर्तित करता है और व्यक्ति की जैव-ऊर्जा को खाली करने के बजाय संपूर्ण करता है। अतः वह व्यक्ति थकान व तनाव न महसूस करते हुए अतिरिक्त ऊर्जावान होकर रोजमर्रा की जिंदगी के दबावों व अपेक्षाओं का डटकर सामना कर पाता है। सकारात्मक ऊर्जा स्रोत के अंतर्गत व्यक्ति बेहतर निद्रा व स्वस्थ एवं सतुंष्ट जीवन को प्राप्त करता है। ऐसे में व्यक्ति अधिक अच्छे से ध्यान लगा सकता है तथा उसकी तनाव, थकान व संक्रामक रोगों से मुक्ति हो जाती है।

 

सिक्के / लॉकेट / ताबीज

सिक्के व सिक्कों के आकार के लॉकेट (जिनमें कुछ यंत्रों की आकृति होती है) को बतौर ताबीज धारण करने/रखने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है। यंत्रां, रुद्राक्ष व रत्नों के लॉकेट गले में पहनने के लिए होते हैं। योगियों के अनुसार लॉकेट का सकारात्मक स्पंदन ;टपइतंजपवदद्ध हृदय चक्र को सक्रिय करता है। जब हम गले में लॉकेट पहनते हैं तो यह ढाल बनकर हमारी काला जादू, बुरी आत्माओं, भूत प्रेत व ग्रहों के प्रतिकूल प्रभाव से रक्षा करता है।

फेंगशुई सामग्री

फेंगशुई का अर्थ है वायु व जल। प्राचीनकाल से ये दोनों जल व वायु दो बड़ी शक्तियां मानी जाती रही है। यही ऊर्जा व्यक्ति के स्वास्थ, प्रगति व सौभाग्य के लिए ज़िम्मेदार होती हैं। फेंगशुई सामग्री हमारे वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह की बेहतरी का दावा करती है।

रंग चिकित्सा

रंग चिकित्सा हमारे शरीर के ऊर्जा चक्रों को संतुलित करती है और उसमें वृद्धि करती है। यह हमारे शरीर के स्वतः स्वस्थ होने की क्षमता को प्रेरित करती है। रंग चिकित्सा रंगों के प्रयोग से चक्रों के ऊर्जा केद्रां को पुनः संतुलित करती है।

लाल किताब

ज्योतिष की चमत्कारिक पुस्तक लाल किताब में कुछ विलक्षण उपायों का उल्लेख है। ये उपाय सस्ते हैं व एक आम आदमी की पहुंच में हैं तथा आसानी से किए जा सकते हैं।

 

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव कुंडली विशेषज्ञ और प्रश्न शास्त्री 8178677715, 9811598848

rekhakalpdev@gmail.com

ज्योतिष आचार्या रेखाकल्पदेव पिछले 15 वर्षों से सटीक ज्योतिषीय फलादेश और घटना काल निर्धारण करने में महारत रखती है। कई प्रसिद्ध वेबसाईटस के लिए रेखा ज्योतिष परामर्श कार्य कर चुकी हैं।

आचार्या रेखा एक बेहतरीन लेखिका भी हैं। इनके लिखे लेख कई बड़ी वेबसाईट, ई पत्रिकाओं और विश्व की सबसे चर्चित ज्योतिषीय पत्रिकाओं में शोधारित लेख एवं भविष्यकथन के कॉलम नियमित रुप से प्रकाशित होते रहते हैं।

जीवन की स्थिति, आय, करियर, नौकरी, प्रेम जीवन, वैवाहिक जीवन, व्यापार, विदेशी यात्रा, ऋणऔर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, धन, बच्चे, शिक्षा,विवाह, कानूनी विवाद, धार्मिक मान्यताओं और सर्जरी सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं को फलादेश के माध्यम से हल करने में विशेषज्ञता रखती हैं।

 



Reported By:Acharya Rekha Kalpdev
Indian news TV