Sports News 

BCCI के द्रविड़ को भेजे नोटिस में क्या है कि गांगुली को कहना पड़ा,"इंडियन क्रिकेट को भगवान बचाए"

राहुल द्रविड़ को भारतीय क्रिकेट बोर्ड BCCI की तरफ़ से नोटिस मिला है. वजह है उनके ख़िलाफ़ की गयी एक शिकायत जिसका संज्ञान लेते हुए रिटायर्ड जस्टिस डीके जैन ने उन्हें नोटिस जारी किया. डीके जैन सुप्रीम कोर्ट द्वारा फ़रवरी में BCCI में लोकपाल के पद पर नियुक्त किए गए थे. BCCI को भेजी गयी शिकायत में लिखा हुआ था कि राहुल द्रविड़ नेशनल क्रिकेट एकेडमी के डायरेक्टर भी हैं, इंडिया अंडर-19 और इंडिया-ए टीम के कोच भी हैं साथ ही इंडिया सीमेंट्स में वाइस प्रेसिडेंट भी हैं जो कि आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स की मालिक है. ऐसे में वो हितों के टकराव (conflict of interest) वाला काम कर रहे हैं जो कि नहीं होना चाहिये.

डीके जैन ने पीटीआई से बात करते हुए कहा-

हां मैंने राहुल द्रविड़ को नोटिस जारी किया है. साथ ही उन्हें इस बात पर जवाब देने के लिए दो हफ़्तों का समय भी दिया है. उनके जवाब के आधार पर हम आगे ये तय करेंगे कि उनपर कोई कार्रवाई करनी है या नहीं.

द्रविड़ को अब जवाब भेजना होगा या फिर डीके जैन के बुलावे पर उनके सामने हाज़िर होना होगा.

सौरव गांगुली ने ट्वीट कर के इस बारे में अपनी नाराज़गी जाहिर की. उन्होंने कहा कि हितों के टकराव की बात अब भारतीय क्रिकेट में फैशन बन चला है और ये ख़बरों में बने रहने का एक नया तरीका हो गया है. भारतीय क्रिकेट को अब भगवान ही बचाए.

 

राहुल द्रविड़ के ख़िलाफ़ शिकायत करने वाले हैं संजीव गुप्ता. संजीव गुप्ता मध्य प्रदेश क्रिकेट असोसिएशन के लाइफ़ टाइम मेंबर हैं. संजीव गुप्ता ने हाल ही में सचिन तेंडुलकर के ख़िलाफ़ भी ऐसी ही शिकायतें की थीं. इसके अलावा उन्होंने BCCI की क्रिकेट एडवाइज़री कमिटी के पैनल मेम्बर्स कपिल देव, अंशुमान गायकवाड और शांता रंगास्वामी के ख़िलाफ़ भी शिकायत की थी. संजीव गुप्ता ने मई 2019 में एक ख़त लिखकर ये भी कहा था कि बोर्ड के ऐक्टिंग सेक्रेटरी अमिताभ चौधरी को हटाया जाना चाहिए क्यूंकि वो असंवैधानिक तरीके से पद पर बने हुए थे. इसके तुरंत बाद संजीव गुप्ता के ही ख़िलाफ़ शिकायत आई कि संजीव गुप्ता ऑनलाइन मैट्रिमोनी साइट पर अश्लील चैट करते हैं. ये शिकायत एक अनाम महिला द्वारा की गयी थी और शिकायत के सपोर्ट में कई डॉक्यूमेंट्स भी मुहैय्या करवाए गए थे.

क्रिकेट एडवाईज़री कमिटी में एक वक्त पर सचिन तेंडुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण भी शामिल थे. इसके साथ सचिन आईपीएल में मुंबई इंडियन्स और लक्ष्मण सनराइज़र्स हैदराबाद के साथ जुड़े हुए थे. सौरव गांगुली क्रिकेट असोसिएशन ऑफ़ बंगाल के प्रेसिडेंट थे, टीवी पर कमेंट्री कर रहे थे और डेल्ही कैपिटल्स के मेंटर थे. इस मसले पर लक्षमण और गांगुली को हितों के टकराव का दोषी पाया गया था जबकि सचिन तेंडुलकर को क्लीन चिट मिल गयी थी क्यूंकि उन्होंने कहा था कि वो BCCI में किसी भी कमिटी का हिस्सा बनने के इच्छुक नहीं थे.



Reported By:ADMIN
Indian news TV