Sports News 

जब निशानेबाज अभिनव बिंद्रा की मदद करने से पहले, सुषमा स्वराज ने शर्त रख दी थी

6 अगस्त 2019 को सुषमा स्वराज का निधन हुआ. मंगलवार की शाम हार्ट अटैक के बाद उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था, जहां रात 9 बजे की करीब उन्होंने आखिरी सांस ली. सुषमा स्वराज 67 साल की थीं. सुषमा स्वराज को देश-विदेश से लेकर पक्ष और विपक्ष के सारे नेता याद कर रहे हैं. सभी उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

विदेश मंत्रालय का ज़िम्मा संभालने के दौरान उन्होंने शानदार काम किया था. जिसकी वजह से आम लोग भी सुषमा स्वराज को याद कर रहे हैं. लोग यहां तक कह रहे हैं कि उनकी और सुषमा स्वराज के बीच बस उतनी ही दूरी थी, जितनी हाथों से सोशल मीडिया की.

सुषमा स्वराज ट्विटर के ज़रिए लगातार लोगों की मदद किया करती थीं. वो इतनी एक्टिव रहती थीं कि लोग उन्हें ‘ट्विटर मिनिस्टर’ भी कहते थे. ये सुषमा स्वराज का सोशल मीडिया से लगाव ही था जो वो हर चीज़ें शेयर किया करती थीं. मसला चाहे खुद से जुड़ा हो या फिर परिवार से जुड़ा. वे लोगों को अपडेट करने में पीछे नहीं रहती थीं.

बहुत छोटा सा उदाहरण उनकी बीमारी को लेकर भी है. जहां लोग किसी बड़े नेता की बीमारी को लेकर तरह-तरह के कयास लगाते हैं, बातें करते हैं, वहां सुषमा स्वराज ने खुद ट्वीट करके लोगों को अपनी बीमारी की जानकारी दी थी.

अब उनके निधन के बाद सोशल मीडिया पर लोग सुषमा स्वराज के काम को याद कर रहे हैं, ट्वीट कर रहे हैं. कह रहे हैं कि एक बड़ी नेत्री जो एक ट्वीट पर लोगों के लिए मौजूद रहती थीं, वो हमारे बीच नहीं रहीं.

सुषमा स्वराज की मदद से हामिद भारत लौटा

दिसंबर 2018. जब हामिद अंसारी भारत लौटे. जो 6 साल से पाकिस्तान की जेल में बंद में थे. हामिद फेसबुक पर एक महिला से दोस्ती के चक्कर में 2012 में पाकिस्तान चले गए थे. जहां उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. जिसके बाद हामिद के परिवार ने सुषमा स्वराज से गुहार लगाई. सुषमा स्वराज ने इस मामले में निजी तौर भिड़ कर मदद की. जिसके बाद दिसंबर 2018 में हामिद की वतन वापसी हुई. सोशल मीडिया पर एक यूजर ने हामिद के वतन वापसी का वीडियो ट्वीट करते हुए सुषमा को याद किया है.

‘मंगल ग्रह पर भी भारतीय दूतावास’

7 जून 2017 को सुषमा स्वराज ने जो ट्वीट किया था, उसे कोई नहीं भूल सकता है. ट्विटर पर एक यूजर ने उनसे सवाल पूछा कि लोगों को मदद कहां-कहां मिल सकती हैं. जिसका जवाब उन्होंने कुछ इस तरह से दिया था-

अगर आप मंगल ग्रह पर भी फंसे हों, तो भारतीय दूतावास वहां भी आपकी मदद करेगा

सुषमा स्वराज के इस ट्वीट को काफी लोग पोस्ट करके याद कर रहे हैं. (ट्वीट का स्क्रीनशॉट)

जब सुषमा ने हनीमून कपल को मिलवाया

अगस्त 2016 का वक्त था. जब दिल्ली के रहने वाले फ़ैज़ान ने फ्लाइट में अपनी पत्नी की तस्वीर के साथ फोटो पोस्ट की. जिसमें उन्होंने सुषमा स्वराज को टैग करते हुए लिखा था-

देखिए. इस तरह से मैं अपनी पत्नी के साथ यात्रा कर रहा हूं.

जिसके जवाब में सुषमा स्वराज ने ट्वीट किया था-

अपनी पत्नी से कहिए कि मुझसे संपर्क करें. मैं सुनिश्चित करूंगी कि वो आपके साथ आपकी बग़ल वाली सीट पर बैठें.

दरअसल फ़ैज़ान की पत्नी का वीज़ा जारी होने के बाद पासपोर्ट गुम हो गया था. जिस वजह से वो अपने पति के सा ट्रैवल नहीं कर पा रही थी. इस मामले में सुषमा स्वराज से गुहार लगाने के बाद उनका तुरंत पासपोर्ट बन गया.

सुषमा स्वराज के निधन के बाद फ़ैज़ान ने उन्हें याद करते हुए ट्विटर पर लिखा है-

सुषमा जी के निधन की ख़बर से बेहद दुखी हूं. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें. विदेश मंत्री रहते हुए उन्होंने भारत में एक नई तरह की राजनीति की.

जब सुषमा ने ‘शर्त’ के साथ की मदद

अप्रैल 2016 में निशानेबाज अभिनव बिंद्रा का पासपोर्ट चोरी हो गया था. बिंद्रा को ब्राज़ील के रियो में प्री ओलंपिक में भाग लेने जाना था. लेकिन वो जर्मनी में ही फंस गए थे. जिसके बाद उन्होंने ट्विटर पर सुषमा स्वराज से मदद की गुहार लगाई.

उस समय सुषमा स्वराज अभिनव बिंद्रा की मदद के लिए तैयार तो हुईं लेकिन एक खास शर्त के साथ. सुषमा ने ट्विटर पर लिखा-

अभिनव हम आपकी हरसंभव मदद की कोशिश करेंगे, लेकिन आपको एक वादा करना होगा कि आप भारत के लिए ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतेंगे.

जिसपर अभिनव बिंद्रा ने लिखा था-

आपकी शुभकामनाओं के साथ मैं अपनी ओर से हरसंभव कोशिश करूंगा और अपनी ओर से कोई कमी नहीं छोड़ूंगा.

सुषमा स्वराज के निधन पर अभिनव बिंद्रा ने भी ट्वीट किया-

सुषमा ने पहले डांटा फिर मदद की

युवक को डांटने की वजह जम्मू कश्मीर थी. दरअसल मई 2018 में फिलीपींस में फंसे एक युवक ने ट्विटर पर सुषमा स्वराज से मदद मांगी. शेख़ अतीक़ नाम के युवक ने ट्विटर पर लिखा-

सुषमा स्वराज जी, मुझे आपकी मदद की ज़रूरत है. मेरा पासपोर्ट डैमेज हो गया है. मुझे अपने घर भारत लौटना है.

लेकिन मदद से पहले सुषमा स्वराज की नज़र युवक के प्रोफाइल पर पड़ गई. जहां युवक ने खुद को ‘भारत अधिकृत कश्मीर’ का रहने वाला बताया था. इस बात पर सुषमा स्वराज ने युवक को डांट पिलाई. फिर युवक ने तुरंत उसे ठीक करके ‘जम्मू कश्मीर’ कर दिया. जिसके बाद सुषमा स्वराज ने भारतीय दूतावास को आदेश दिया कि युवक की तुरंत मदद करें.

दो देशों के कपल को सुषमा ने एक कराया

जोधपुर का लड़का था और कराची की लड़की. दोनों की शादी होनी थी, लेकिन नहीं हो पा रही थी. ये बात नवंबर 2016 की है. जब जोधपुर के नरेश तेवानी ने सुषमा स्वराज से मदद मांगी थी. उन्होंने सुषमा स्वराज को ट्वीट कर कहा था उनकी होने वाली पत्नी प्रिया और उसके परिजनों को वीज़ा नहीं मिल पा रहा है. कृप्या मदद करें. उन दोनों की शादी वीजा की ही वजह से रुकी थी.

दरअसल उस समय भारत के सर्जिकल स्ट्राइक की वजह से भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था. और दोनों देशों के लोगों को वीज़ा मिलने में दिक्कत हो रही थी. ट्वीट के बाद सुषमा स्वराज एक्शन में आई और फिर दोनों की शादी तय तारीख पर हो पाई.

सिर्फ एक ट्वीट के बाद सुषमा स्वराज ने लड़की के परिवार को वीज़ा दिलाने में मदद की थी.

गीता की शादी नहीं करा पाईं सुषमा

2016 में जब गीता पाकिस्तान से भारत लाई गई थी, तब उन्होंने गीता को ‘हिंदुस्तान की बेटी’ कहा था. उन्होंने कहा था कि गीता के परिजनों को ढूंढने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी. हालांकि गीता के परिवारवाले नहीं नहीं मिल पाए. साथ ही उनका एक सपना भी अधूरा रह गया. दरअसल सुषमा स्वराज गीता की शादी करवाना चाहती थी. जहां गीता रह रही थीं, वहां उन्होंने लड़का ढूंढने के लिए भी कहा था. लेकिन ये सपना अधूरा रहा गया.

सुषमा स्वराज की प्रयासों की वजह से ही गीता को भारत लाया गया था (फाइल)

दरअसल गीता 10 साल की उम्र में गलती से पाकिस्तान पहुंच गई. जिसके बाद उसकी देखभाल के लिए ईदी फाउंडेशन के पास सौंपा गया. गीता बोल और सुन नहीं पाती है. सुषमा स्वराज की कोशिशों का ही नतीजा था कि गीता पाकिस्तान से भारत लौट पाई थी. इसके अलावा उनके कार्यकाल के दौरान कई ऐसे किस्से हुए जब सुषमा स्वराज लोगों की मदद के लिए तुरंत खड़ी हो गई थीं.



Reported By:ADMIN
Indian news TV