National News 

आकाश विजयवर्गीय पर मोदी बहुत नाराज़ हुए, उतना ही जितना साध्वी प्रज्ञा पर हुए थे!

लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार बीजेपी की संसदीय दल यानी पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक हो रही है. इस बैठक में पीएम मोदी ने इंदौर वाली घटना पर सख्त नाराजगी जताई है. उन्होंने कैलाश विजयवर्गीय और उनके बेटे का नाम लिए बिना बैठक में कहा-

ऐसी घटना से मुझे बहुत नाराजगी हुई. ये नहीं होना चाहिए. चाहे किसी का भी बेटा हो, मंत्री या सांसद किसी का भी. उनको पार्टी से बाहर निकाल देना चाहिए.

View image on TwitterView image on TwitterView image on TwitterView image on Twitter

ANI@ANI

Delhi: Prime Minister Narendra Modi, Union Home Minister Amit Shah, Defence Minister Rajnath Singh, BJP Working President Jagat Prakash Nadda & other leaders at BJP Parliamentary Party Meeting at Parliament library building.

218

10:21 AM - Jul 2, 2019

41 people are talking about this

Twitter Ads info and privacy

जबकि दूसरी तरफ कैलाश विजयवर्गीय ने इस घटना पर जिस तरह से बयान दिया वो कुछ और ही इशारे करता है. कैलाश विजयवर्गीय ने अपने बेटे का “कच्चा खिलाड़ी” बताया. इंदौर वाली घटना पर बात करते हुए उन्होंने कहा-

ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. मुझे लगता है आकाश और नगर निगम के कमिश्नर दोनों पक्ष कच्चे खिलाड़ी हैं. यह एक बड़ा मुद्दा नहीं था, लेकिन इसे बहुत बड़ा बना दिया गया. मुझे लगता है कि अधिकारियों को अहंकारी नहीं होना चाहिए. उन्हें जनप्रतिनिधियों से बात करनी चाहिए. मैंने इसकी कमी देखी है. दोनों को समझना चाहिए, ताकि ऐसी घटना दोबारा न हो.

कैलाश विजयवर्गीय की नज़र में ये बड़ी घटना नहीं थी. ना ही इस घटना का मलाल आकाश विजयवर्गीय को है. क्योंकि जेल से बाहर आने पर जब उनसे पूछा गया कि इस घटना पर आप क्या कहेंगे, तब उन्होंने कहा था –

मुझे इस घटना पर कोई अफसोस नहीं है. उस वक्त की जो परिस्थिति थी उसको देखते हुए मुझे जो करना था वो मैंने सोच समझकर ज़िम्मेदारी के साथ किया. उस वक्त एक विक्लांग महिला को पैर पकड़ कर घर से बाहर निकाला जा रहा था. भरी बारिश में एक गरीब परिवार को बेघर किया जा रहा था. इसीलिए मैंने जो किया उसे लेकर मुझे कोई अफसोस नहीं है.

जेल से निकलने के बाद आकाश विजयवर्गीय का भव्य स्वागत हुआ था.

जेल से निकलने के बाद आकाश विजयवर्गीय का भव्य स्वागत हुआ था.

अब मामले का फौरी रिकैप

दरअसल इंदौर नगर निगम की एक टीम गंजी कंपाउंड में एक जर्जर मकान गिराने पहुंची थी. इस बात की जानकारी आकाश विजयवर्गीय को दी गई. आकाश इसी इलाके से विधायक हैं और कैलाश विजयवर्गीय के बेटे भी. मकान गिराने की बात पर आकाश की निगम अधिकारी भिड़ंत हो गई. उन्होंने अधिकारी को बल्ले से पीट दिया.

Embedded video

ANI@ANI

Madhya Pradesh: Akash Vijayvargiya, BJP MLA and son of senior BJP leader Kailash Vijayvargiya, thrashes a Municipal Corporation officer with a cricket bat, in Indore. The officers were in the area for an anti-encroachment drive.

7,146

1:14 PM - Jun 26, 2019

6,122 people are talking about this

Twitter Ads info and privacy

इस मामले में बाद में आकाश की गिरफ्तारी हुई. फिर रविवार को उन्हें ज़मानत मिल गई. अब चूंकि इस मामले पर पीएम मोदी ने कड़ी आपत्ति जता दी है. बात पार्टी से निकालने तक पहुंच गई है. तो देखना है कि आकाश विजयवर्गीय पार्टी से निकाले जाएंगे या नहीं.

वैसे पीएम की कड़ी आपत्ति से एक घटना याद आई. भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने गोडसे को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया था. उस पर भी पीएम ने कड़ा रुख अख्तियार किया था. साथ ही ये भी कहा था कि वो उन्हें दिल से कभी माफ नहीं कर पाएंगे.

बीजेपी की पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक संसद भवन की लाइब्रेरी के सभागार में हो रही है. जिसमें बीजेपी के लोकसभा और राज्यसभा के सभी 380 सांसद मौजूद हैं. इस बैठक की अध्यक्षता पीएम मोदी कर रहे हैं, जो सभी सांसदों के साथ आगे का एजेंडा तय करेंगे.



Reported By:ADMIN
Indian news TV