Sports News 

CWC 2019: पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पहले विराट कोहली ने क्या कहा?

विराट कोहली. आज के वक़्त में भारतीय क्रिकेट का सबसे बड़ा नाम. 10 हज़ार से ऊपर वन-डे रन. दुनिया के नंबर एक वन-डे और टेस्ट बैट्समैन. किसी भी बॉलिंग अटैक की धज्जियां उड़ाने वाला टेस्ट बैट्समैन. किसी भी मुश्किल सिचुएशन से टीम को निकाल लें. स्ट्रांग हेडेड और अग्रेसिव बैट्समैन. इसके साथ ही भारतीय क्रिकेट की कप्तानी की एक बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी. 2019 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया को लीड कर रहे हैं. इंडिया टुडे ने विराट कोहली से बातचीत की. इंटरव्यूनुमा बातचीत. जानते हैं कोहली ने सवालों के कैसे और क्या जवाब दिए.

पहला सवाल- कोहली ने जितने भी वर्ल्ड कप अब तक खेले हैं, 2019 वर्ल्ड कप क्या उसमें सबसे बड़ा टूर्नामेंट है?

विराट ने कहा कि काफ़ी चीज़ें बंदली हैं. 2011 में वो काफ़ी छोटे थे. उस वक़्त उन्हें बस इतना कहा गया था कि उन्हें अच्छा खेलना है. 2015 में वो टीम गेम में थोड़ा और इनवॉल्वड हो चुके थे. लेकिन उस वक़्त तक भी उन्हें डिसीजन मेकिंग सेशंस में बहुत हिस्सेदारी नहीं करनी होती थी. इंटेंस मीटिंग्स में नहीं शामिल होना होता था. लेकिन अब 2019 में चूंकि वो कप्तान हैं, चीज़ें बहुत अलग हो गयी हैं. उनके ऊपर बहुत सारी जिम्मेदारियां हैं और साथ ही उन्हें ये भी मालूम है कि उनके हर फ़ैसले पर टीम की दिशा तय होगी कि आखिर टीम इंडिया किस डायरेक्शन में आगे बढ़ रही है.

कोहली से सचिन की 49 वन-डे सेन्चुरीज़ के बारे में भी पूछा गया. पिछले कुछ सालों में वो अपनी सबसे अच्छी बैटिंग कर रहे हैं और हर साल 7 से 8 सेंचुरी मार रहे हैं. ऐसे में क्या वो वर्ल्ड कप में सबसे ज़्यादा कांफिडेंट हैं?

कोहली ने कहा कि पिछले कुछ वक़्त में ये सवाल उनसे काफ़ी दफ़ा पूछा गया है. उन्हें नहीं मालूम है कि ये उनकी बेस्ट बैटिंग परफॉरमेंस होगी. हां, उन्होंने अच्छा परफॉर्म किया है लेकिन वो ये भी बहुत अच्छे से जानते हैं कि इसमें एक दिन गिरावट आएगी. लेकिन वो उस पर ध्यान नहीं देते और वो प्रेजेंट में जीने में विश्वास रखते हैं. अगर इस प्रोसेस में कुछ रेकॉर्ड्स टूटते हैं तो अच्छी बात है. वो सिर्फ़ इंडिया की जीत में कंट्रीब्यूट करने के मकसद से मैदान पर उतरते हैं.

विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी (एपी)

विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी (एपी)

इसके बाद आया सबसे इंट्रेस्टिंग सवाल – महेंद्र सिंह धोनी के बारे में. उनसे पूछा गया कि वो धोनी के हमेशा से ही पक्षधर रहे हैं और जब धोनी का एक बुरा दौर आया था तब कोहली ने ही लोगों से थोड़ा सब्र रखने को कहा था.

कोहली ने कहा, कि धोनी ने इस गेम को क्या दिया है, हर कोई जानता है. एक वक़्त था जब लोग हाथ धोकर धोनी के पीछे पड़ गए थे. लेकिन कोहली को हमेशा ऐसा लगता था कि धोनी का ऐसा क्रिटिसिज्म उनके साथ बहुत ही अनफ़ेयर है. यहां कोहली ने एक मज़ेदार बात की. वो बात जिसके बारे में लोग मज़ाकिया तौर पर कहते भी हैं कि कप्तानी तो धोनी करते हैं, कोहली तो बस ऑन पेपर कप्तान हैं. कोहली ने कहा कि 35 से 50 ओवर के बीच वो डीप में फ़ील्डिंग करते हैं. धोनी ही हैं जिन्हें विकेट के पीछे से सारी बॉल्स और फ़ील्डिंग पोज़ीशन दिखाई देती है और वही उस दौरान फ़ील्डिंग संभालते हैं. कोहली डीप में रहकर टीम के लिए कंट्रीब्यूट कर सकते हैं. कोहली ने कहा कि वो लकी हैं कि करियर के इस हिस्से में उन्हें धोनी जैसा साथी मिला और जहां तक क्रिकेट की बात है तो कोहली के बारे में धोनी ही वो शख्स हैं जिन्हें सब कुछ मालूम है.

कोहली से टीम कॉम्बिनेशन के बारे में भी बात की गयी. उनसे पूछा गया कि क्या वो इंग्लैण्ड में जाने वाली 15 लोगों की स्क्वायड से संतुष्ट हैं?

कोहली ने जवाब दिया कि वो पूरी तरह से कांफिडेंट हैं कि ये इंडिया की बेस्ट 15 लोगों की टीम है. उनके पास अच्छे बैट्समेन हैं और साथ ही हार्दिक पंड्या, विजय शंकर जैसे थ्री-डायमेंशनल प्लेयर्स हैं. टीम इंडिया के पास जडेजा, चाहल और कुलदीप यादव के रूप में अच्छा स्पिन अटैक है. और पेस अटैक तो अच्छा है ही. हां, नंबर 4 के लिए टीम इंडिया बहुत वक़्त से परेशान थी. विजय शंकर के आने से वो प्रॉब्लम भी सॉल्व होती हुई दिखाई दे रही है. वो अच्छे बैट्समैन हैं और साथ ही बीच के ओवर्स में 4-5 ओवर बॉल भी डाल सकते हैं.

आखिर में कोहली से पूछा गया कि क्या वो खुद को वर्ल्ड कप की ट्रॉफी के साथ लॉर्ड्स की बालकनी में खड़े हुए देखते हैं?

कोहली ने जवाब दिया कि वो एक वक़्त पर एक ही मैच के बारे में सोच रहे हैं. वो प्रेजेंट पर ज़्यादा ध्यान दे रहे हैं और एक बार में एक ही कदम बढ़ाने के पक्षधर हैं. इंडिया के पास 9 मैच हैं. फिर सेमीफाइनल है और फिर फाइनल. इसलिए एक एक कर ही आगे बढ़ना बुद्धिमानी होगी.



Reported By:Admin
Indian news TV