National News 

सूरत में लोगों की जान बचाने के लिए जिसे हीरो बताया गया, पुलिस ने उसी को क्यों गिरफ्तार कर लिया?

गुजरात के सूरत अग्निकांड में एक नया अपडेट आया है. वो ये कि सूरत पुलिस ने तक्षशिला बिल्डिंग में कोचिंग चला रहे भार्गव बूटानी को पकड़ लिया है. ये बात हम आपको इससे पहले वाली स्टोरी में बता चुके हैं. लेकिन नया अपडेट ये है कि सूरत के जिस वीडियो में जो आदमी बच्चों को बचाता दिख रहा था और जिसे लोग हीरो बता रहे थे, पुलिस ने उसे ही पकड़ लिया है. सोशल मीडिया पर ये शख्स खूब वायरल हुआ हैय

ये सब कुछ हुआ सोशल मीडिया पर फैलाए गए कन्फ्यूज़न की वजह से. दरअसल केतन जोरवाडिया नाम के शख्स ने हकीकत में 12 बच्चों की जान बचाई.

View image on TwitterView image on Twitter

ANI@ANI

Ketan: There was smoke, I did not know what to do. I took the ladder, first helped the children get out of the place, managed to save 8-10 people. Later I managed to rescue 2 more students. Fire brigade came after 40-45 minutes.

1,039

9:31 AM - May 25, 2019

335 people are talking about this

Twitter Ads info and privacy

उन्होंने जिस तरह से बच्चों की जान बचाई उसकी कोई तस्वीर या फिर वीडियो मौजूद नहीं है. लेकिन बचाए गए बच्चे मीडिया को दिए गए इंटरव्यू में उनकी तारीफ कर चुके हैं. उर्मी वकारीया ने कहा था:

भार्गव सर की वजह से आग की भेंट चढ़ रहे कई स्टूडेंट्स की जान बची. वह आग देखकर भागे नहीं, बल्कि आग का सामना करते हुए मुझे और मेरी दोस्त को बचाया. वह भगवान समान हैं, वो न होते तो हम नहीं बच पाते. उन्होंने हमें खिड़की से नीचे उतारा, तब केतन ने दूसरे लोगों के साथ हमारी जान बचाई.

केतन ने जिन बच्चों की जान बचाई उनमें उर्मी वकारिया भी शामिल थीं.

उर्मी वकारीया ने खुद को बचाने के लिए केतन का शुक्रिया अदा किया था.

दरअसल कोचिंग में आग लगने के बाद भार्गव बुटानी ने दो बच्चों की जान बचाई. सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल भी हो रहा है. उसमें वो बिल्डिंग के ऊपर बच्चों को बचाता हुआ दिख रहा है. बच्चों के बचाने के दौरान भार्गव खुद भी चोटिल हुआ. लेकिन कन्फ्यूज़न यही हुई कि लोगों ने गलती से, वीडियो में दिख रहे भार्गव को केतन जोरवाडिया बता दिया. ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया गया.

बच्चों को बचाने के लिए केतने इमारत पर चढ़ गए.

भार्गव बुटानी ने बच्चों को बचाने की पूरी कोशिश की, हालांकि लोगों ने भार्गव को ही केतन बता दिया.

इस अग्निकांड के बाद जब पुलिस ने मामले की जांच की. तो पता चला कि जो युवक बच्चों को बचा रहा था, वो ही कोचिंग का संचालक भार्गव बुटानी था. भार्गव बुटानी ही तक्षशिला बिल्डिंग में अवैध रूप से स्मार्ट क्लासेस चला रहा था. जब आग लगी तो वो बिल्डिंग में ही था और फिर खिड़की से बाहर निकलने के क्रम में उसने साथ के बच्चों को बचाने की पूरी कोशिश की.

दूसरा भार्गव बुटानी की सबसे बड़ी गलती थी कि वो पूरे अवैध तरीके से कोचिंग चला रहा था. बिंल्डिंग के ऊपर टेंट डाल कर बच्चों को पढ़ा रहा था. वहां किसी भी तरह से आग को बुझाने का सामान मौजूद नहीं था. जिस बिनाह पर पुलिस ने भार्गव की गिरफ्तारी कर ली.

पुलिस की गिरफ्तार में कोचिंग संचालक भार्गव बुटानी

पुलिस की गिरफ्तार में कोचिंग संचालक भार्गव बुटानी

हालांकि सोशल मीडिया इस गिरफ्तारी का विरोध कर रहा है. सोशल मीडिया पर लोगों को कहना है कि जिसने बच्चों को बचाने की पूरी कोशिश की उसे इस तरह से पकड़ना बिल्कुल गलत है.



Reported By:Admin
Indian news TV