National News 

पिता ने बेटी को फोन करके कहा, संजू अच्छा लड़का है शादी कर लो, बेटी को शक हो गया

कहने वाले कह गए हैं कि ‘इश्क़ और जंग में सब जायज़ है.’ वैसे कहावत ये अंग्रेज़ी में है ‘Everything is fair in lobe and war.’ लेकिन ज़माना ही ट्रांसलेशन का है गुरु. तो अभी-अभी आपने हमारा एक टाइपो पकड़ा? स्पेलिंग की मीस्टेक? इसमें भी मिस्टेक है. है न? और पकड़ के सोचा कि ये मारा पापड़ वाले को. लेकिन ज़रा थम जाओ ब्रो. ग़लती हमारी नहीं है. ग़लती इस कहावत को कहने वाले की है. उसने कहावत में इस्तेमाल किया love. लेकिन हम नहीं कर सकते. क्योंकि अगर इश्क़ में सब जायज़ ही है, तो वो प्यार क़तई नहीं हो सकता. किसी की गर्दन पर ब्लेड रखकर कहो ‘I lobe you’. तो वो असली वाला Love नहीं होगा न. वो होगा दुनियावी टाइपो वाला Lobe. फ़र्स्ट कॉपी इश्क़.

# इत्ती कहानी काहे सुनाई?

बताते हैं, बताते हैं. ज़रा दिमाग़ को दम तो लेने दो. अभी तो इत्ती कलात्मकता दिखाई ऊपर.

हां एक मामला सामने आया है. मामला क्या है उस्ताद, कबीर की उलटबांसी समझिए. बरसे कमली भीजे आसमान. आपने इकतरफ़ा प्यार वाले मामले सुने होंगे. लड़की को अगवा करने से लेकर तेज़ाब फेंकने तक कुछ भी हो सकता इन मामलों में. लेकिन इस बार दिल्ली से एक ऐसा मामला सामने आया है जो शायद ही किसी ने सुना होगा.

# अब बताते हैं असली कहानी

हुआ क्या कि एक संजीव नाम का लड़का है. बहुतों के नाम संजीव होंगे लेकिन इसका निकनेम भी है. उर्फ़ वाला. ऑल्सो नोन ऐज़ संजू. बंदा काम करता था ऑनलाइन फ़ूड डिलीवरी कंपनी में. खाना डिलीवर करता था. दोस्त ने एक लड़की से मिलाया. भाई को Lobe हो गया.

अब जब Lobe हुआ तो उसके नतीजे भी आने थे. संजू ने लड़की से शादी की बात की. लड़की तैयार भी हो गई. क्योंकि अभी तक उसे पता नहीं था न कि संजू उसे Love नहीं बल्कि टाइपो वाला Lobe करता है. लड़की तैयार हो गई. लेकिन इसी दौरान संजू ने अपना असली टीज़र रिलीज़ कर दिया. लड़की डर गई. संजू किसी और लड़की के साथ भी रिश्ते में था. ये बात पुरानी लड़की को खल गई.

# फिर क्या हुआ?

लड़की ने संजू को उसकी ज़िंदगी और नई वाली गर्लफ्रेंड के साथ अपने रिश्ते से आज़ाद कर दिया. शादी वाली बात कैंसिल हो गई. और अब संजू ने अपना गंदा वाला ट्रेलर ही रिलीज़ कर दिया. लड़की के घरवालों को तंग करने से लेकर पीछा करना ईटीसी. इससे लड़की के पिता डर गए. सज्जन आदमी थे.परिवार को भोपाल भेज दिया और किराए का मकान भी बदल दिया. लेकिन संजू परिवार पर ख़तरे की तरह मंडराता रहा. प्लान-व्लान बनाता रहा लेकिन अब लड़की दिल्ली में थी ही नहीं.

# अब सुनो उलटबांसी वाली कहानी

संजू फिरे दिमाग़ से लड़की को तलाश रहा था. लड़की तो मिली नहीं. लेकिन लड़की के पिता यहीं दिल्ली में पुरानी नौकरी कर रहे थे. तो संजू ने पता लगाया लड़की के पिता का. और पहुंच गया पिता के दफ़्तर. लड़की के पिता एक शोरूम में कैशियर थे. वहीं से संजू ने उठा लिया उन्हें. मतलब किडनैप कर लिया.

किडनैप ही किया, लेकिन पिता का अच्छे से ध्यान रखा. खिलाया-पिलाया. और फिर एक फोन लगवाया. उनकी अपनी बेटी को. जिससे संजू प्यार करता था. और फोन लगवाकर पिता से बेटी को कहलवाया, ‘संजू अच्छा लड़का है, उससे शादी कर लो.’

लड़की को शक हुआ. पुलिस के पास गई. पुलिस ने फोन ट्रेस किया और पीछे लग गई.

संजू ने काम ना बनता देख लड़की को फिर फोन किया और कहा ‘अगर अपने बाप को जिंदा देखना चाहती हो तो मुझसे शादी कर लो.’ पुलिस ने नंबर सर्विलांस पर लगाया ही था. बस वहीं से संजू पकड़ा गया.

# बताओ ये भी कोई बात है?

सिनेमाई माहौल में देखने वाले रोज़ क्राइम पेट्रोल देखते हैं. और इंसानी दिमाग़ की कोई थाह ले नहीं पाया आज तक. बस चल पड़ा तो चल पड़ा. कहां क्या कब कौन किससे… ये सब सवाल सुनता नहीं दिमाग़. लेकिन हमें सुनना चाहिए. दिमाग़ की आवाज़ें भी कई-कई नक़ाब लगाकर दिखाई देती हैं.

आपने इत्ता सारा पढ़ डाला, इसके लिए हम यही कहेंगे ‘Love you’. वो भी बिना टाइपो वाला. खांटी इश्क़. बने रहिए.



Reported By:Admin
Indian news TV