National News 

रायपुर के इस शिव मंदिर में आया करते थे नाग और नागिन का जोड़ा

 

रायपुर स्टेशन रोड नहर पारा स्थित प्राचीन मंदिर श्री नीलकंठेश्वर महादेव मंदिर में आया करते थे साँप का जोड़ा मंदिर के प्रमुख नीलकंठ त्रिपाठी ने बताया कि इस मंदिर में पहले महाशिवरात्रि एवं सावन में नाग नागिन का जोड़ा आया करता था जब तक इनको दूध नारियल और लाल कपड़ा नही चढ़ाते थे तब तक नही जाते थे मंदिर से।
    
       बताते है कि मंदिर के पीछे बहुत बड़ा कुँआ है जहाँ पहले पानी हुआ करता था उसी कुँए से नाग और नागिन के जोड़ा निकलते थे  आज भी कुँआ है परंतु पानी सूख गया है कहते है साँप आज भी उसी कुँए में अंदर है अब बाहर नही निकलते। बताते है कि श्री नीलकंठेश्वर मंदिर बहुत ही पुराना मंदिर है पहले वह मंदिर एक छोटे से गुमज के अंदर में था अभी भव्य हो गया है आज भी श्रद्धालु उस मंदिर में सावन और महाशिवरात्रि में खिंचे चले आते है यहाँ श्रद्धालु बाबा का श्रृंगार और महारती देखने आते है।
  
         कई प्रकार की होती है पूजाए। 

मंदिर के नीलकंठ त्रिपाठी ने बताया कि यहाँ श्रद्धालु को जो तकलीफ होती है उसके निवारण के लिए पूजा करवाई जाती है व्यापार में वृद्धि,ग्रह नक्षत्र की शांति,घर मे क्लेश, लक्ष्मी की प्राप्ति आदि कई प्रकार की पूजा अर्चना की जाती है .

          इस मंदिर में महाशिवरात्रि के समय महादेव को प्रसन्न करने के लिए कई विशेष अनुष्ठान ,अभिषेक,यज्ञ आदि किया जाता है जिससे महादेव जी  हमेशा प्रसन्न रहे श्रद्धालुओ पर।
 
          त्रिपाठी जी ने बताया कि श्रद्धालु  अपने ग्रह नक्षत्र की शांति या व्यापार में वृद्धी, दोष निवारण के लिए मंदिर में आकर अपने नाम गोत्र के साथ संकल्प देकर जाते है उनके नाम से महादेव जी के गर्भ गृह में विशेष पूजा की जाती है जिससे उनके सारे दोष मुक्त हो जाते है।

      इस मंदिर के सर्वराकार पंडित कृपा शंकर त्रिपाठी, पुजारी पंडित सत्येंद्र तिवारी है और मंदिर के बड़े पूजन का आयोजन करता एवं देख रेख पंडित नीलकंठ त्रिपाठी करते है



Reported By:Admin
Indian news TV