National News 

"हम साथ-साथ हैं" की मेंबर के सामने कपड़े उतार दिए थे आलोक नाथ ने

विंता नंदा, संध्या मृदुल, दीपिका अमीन, इन सबके बाद अब एक और महिला ने आलोक नाथ पर इल्जाम लगाया है. उसका कहना है कि हम साथ-साथ हैं के सेट पर आलोक नाथ ने उसका हैरेसमेंट किया. इनके अलावा ऐक्ट्रेस नवनीत निशान भी कह चुकी हैं कि उन्होंने बदतमीजी करने पर आलोक नाथ को थप्पड़ मारा था.

आलोक नाथ ने मेरे सामने कपड़े उतार दिए.

#MeToo कैंपेन में आलोक नाथ पर अब तक तीन इल्जाम लग चुके हैं. ये ऊपर जो लाइन लिखी है, वो आलोक नाथ पर लगा चौथा आरोप है. जिस महिला ने ये आरोप लगाया है, वो अपनी पहचान नहीं जाहिर करना चाहती. उन्होंने अपनी आपबीती मिड-डे अखबार को बताई. उनका कहना है कि वो अब फिल्म इंडस्ट्री में काम नहीं करतीं. परिवार को तकलीफ न हो, इसलिए वो अपनी पहचान छुपा रही हैं.

मिड-डे ने महिला के हवाले से लिखा है-

‘हम साथ-साथ हैं’ फिल्म की शूटिंग के वक्त की बात है. मैं फिल्म के क्रू में थी. हम रात के एक सीन की शूटिंग कर रहे थे. मैं आलोक नाथ को कॉस्ट्यूम देने गई. मैंने उन्हें उनके कपड़े पकड़ाए. कॉस्ट्यूम चेंज करने के लिए वो मेरे सामने ही अपने कपड़े उतारने लगे. मैं हैरान रह गई. मैंने जल्दी से उस कमरे के बाहर जाने की कोशिश की. उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया. मेरे साथ बदतीमीजी की. मुझे याद है कि मैंने अपना हाथ छुड़ाया और वहां से भाग गई.

महिला का कहना है कि आलोक नाथ के बर्ताव से वो चौंक गई थीं. मगर उन्होंने फिल्म के डायरेक्टर-प्रड्यूसर सूरज बड़जात्या को इस बारे में नहीं बताया. उनका कहना है-

मैं आलोक नाथ के खिलाफ बोलने की हिम्मत नहीं जुटा सकी. वो बड़जात्या फैमिली के काफी करीब थे. उनके खिलाफ कुछ बोलने पर सूरज सर (बड़जात्या) को अच्छा नहीं लगा होता.

इतने वक्त तक चुप रहने के बाद अब क्यों बोला, इसकी वजह बताते हुए महिला ने कहा-

अब मैं फिल्म इंडस्ट्री में काम नहीं करती. उस हादसे के बाद मेरे करियर की राह बदल गई. विंता नंदा के लिखे पोस्ट के बाद वो सारी बातें फिर से याद आ गईं मुझे. मैं विंता की हिम्मत को सलाम करती हूं. काश मैं भी उनके जैसी हिम्मत दिखा पाती. लेकिन मेरी जिंदगी बहुत आगे बढ़ गई है. मैं अपने परिवार को किसी परेशानी में नहीं डालना चाहती. 

आलोक नाथ की ‘संस्कारी’ इमेज रातोरात बदल गई
बरसों तक आलोक नाथ की छवि बेहद ‘संस्कारी’ इंसान की रही. लेकिन 7 अक्टूबर की रात विंता नंदा के फेसबुक पर एक पोस्ट लिखने के बाद ये छवि सिर के बल उलट गई. विंता ने बिना नाम लिए लिखा कि उनके साथ बलात्कार किया गया था और जिसने ये किया उसे इंडस्ट्री का सबसे ‘संस्कारी’ आदमी माना जाता है. लोगों ने तुरंत इसे आलोक नाथ से जोड़ना शुरू किया. आलोक नाथ की प्रतिक्रिया भी आ गई. फिर ऐक्ट्रेस नवनीत निशान ने भी कहा कि उन्होंने आलोक नाथ को थप्पड़ मारा था. क्योंकि वो बदतमीजी कर रहे थे.

इसके बाद 9 अक्टूबर को ऐक्ट्रेस संध्या मृदुल ने खुलकर आलोक नाथ का नाम लेते हुए सोशल मीडिया पर पोस्ट लिख दिया. फिर 10 अक्टूबर को दीपिका अमीन का अकाउंट सामने आया. दीपिका का कहना है कि फिल्म और टीवी इंडस्ट्री के लोग आलोक नाथ की इन हरकतों के बारे में अच्छी तरह जानते हैं. 10 तारीख को ही रात में मिड-डे ने पहचान जाहिर किए बिना एक चौथी महिला की कहानी छाप दी. आलोक नाथ पर लगे इल्जाम फिलहाल बस आरोप ही हैं. साबित नहीं हुए हैं. लेकिन फिर भी उनकी ‘संस्कारी’ छवि की रातोरात धज्जियां उड़ गई हैं. एक साल पहले आलोक नाथ की संस्कारी इमेज पर सोशल मीडिया में चुटकुले और मीम्स बन रहे थे. अब उनके खिलाफ #MeToo चल रहा है.

खुद पर लगे आरोपों पर आलोक नाथ का क्या कहना है?
विंता के लगाए आरोपों पर पहले तो आलोक नाथ ने कहा कि हर किसी को अपनी बात रखने का हक है. फिर उन्होंने कहा कि ये सब उनके खिलाफ साजिश है. उनकी छवि खराब करने की कोशिश है. खुद को बेगुनाह बताते हुए उन्होंने दावा किया कि विंता का करियर बनाने के पीछे उनका ही हाथ था. बाद में उन्होंने कहा कि वो न तो विंता के आरोपों को नकारते हैं, न इसे कबूल करते हैं. फिर उनके वकील ने कहा कि आलोक नाथ विंता पर कानूनी कार्रवाई करेंगे. विंता के बाद जिन महिलाओं ने उनपर आरोप लगाए हैं, उनके ऊपर फिलहाल उनकी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.



Reported By:Admin
Indian news TV