Sports News 

रवींद्र जडेजा ने खोला राज, बताया क्यों नहीं मनाया विराट कोहली के विकेट का जश्न

नई दिल्ली: चेन्नई और बेंगलुरु के बीच खेले गए आईपीएल मैच में महेंद्र सिंह धोनी की टीम ने शानदार गेंदबाजी करते हुए विराट कोहली की टीम को 6 विकेट से मात दी. मैच में चेन्नई के स्पिनरों ने कमाल दिखाया और बेंगलुरु के बल्लेबाजों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया. अपना पहला ओवर डालने आए रवींद्र जडेजा ने पहली ही गेंद पर बेंगलुरु के कप्तान विराट कोहली को क्लीन बोल्ड आउट कर दिया. कोहली को बोल्ड करने के बाद रवींद्र जडेजा का रिएक्शन कुछ अजीब सा था. जडेजा ने कोहली के इस विकेट का कोई जश्न नहीं मनाया. जडेजा के इस तरह के रिएक्शनके बाद उन्हें सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल किया गया.

सोशल मीडिया पर इस तरह से ट्रोल होने के बाद रवींद्र जडेजा ने इस मामले में अपनी सफाई दी है. जडेजा ने इस राज से पर्दा उठा दिया है कि आखिर उन्होंने विराट कोहली को आउट करने के बाद जश्न क्यों नहीं मनाया था. 

रवींद्र जडेजा ने बताया कि, ''मैं इस मैच अपने परफॉर्मेंस से बेहद खुश हूं. बहुत अच्छा लग रहा है कि बहुत दिनों के बाद बहुत अच्छा स्पैल डाला है और टीम के लिए एक विनिंग परफॉर्मेंस दिया है. अच्छा लग रहा है कि नेट्स में जिस चीज को लेकर इतने दिनों से जो मैं वर्कआउट कर रहा था, फाइनली मैच में अच्छा हुआ. टीम भी जीती तो और भी खुशी हो रही है.''

विराट कोहली को बोल्ड करने के बाद जश्न ना मनाने के मामले में सफाई देते हुए जडेजा ने कहा, ''विराट को जब देखा तो लगा कि राइट हैंड बैट्समैन स्ट्राइक पर है तो नॉर्मल बॉल डालूंगा. विकेट थोड़ा ड्राई लग रहा था. तो एक अच्छी जगह पर बॉल डालने की कोशिश करने वाला था. पहले ही बॉल पर विकेट मिलेगा यह सोचा नहीं था. क्योंकि अच्छे बैट्समैन हमेशा देखते हैं कि विकेट्स पर क्या हो रहा है. कितना घूमता है, कितनी पेस से बॉल आ रही है. इतनी जल्दी वे आउट नहीं होते हैं.'' 

रवींद्र जडेजा ने कहा, ''पहले ही बॉल पर विकेट मिला तो बहुत ही खुश हूं. और विराट की विकेट हमेशा ही स्पेशल होती है. वो मेरा पहला ही बॉल था. मैं ओवर भी जल्दी-जल्दी डाल देता हूं और कैच भी नहीं था कि गेंद इधर-उधर जाती और सोचने का कुछ टाइम मिलता. पहली गेंद और बोल्ड इसलिए इतना टाइम ही नहीं मिला कि मैं क्या सेलिब्रेशन करूं.'' 

उन्होंने कहा, ''कोहली का जब विकेट लिया तो वो मेरी पहली बॉल थी. उस वक्त मैं जश्न के लिए तैयार ही नहीं था. इसीलिए मैंने जश्न नहीं मनाया. बाकि कोहली का विकेट लेना हमेशा बड़ी बात होती है. मैं अपनी गेंदबाजी को एन्जॉय कर रहा था.'' 

Virat Kohli

स्पिनर्स के शानदार परफॉर्मेंस पर जडेजा ने कहा, ''जब हरभजन सिंह और मैंने देखा तो विकेट थोड़ा ड्राई लग रहा था. इसलिए अच्छा ऑप्शन यही था कि आप गेंजबाजी में जितना अच्छा और ज्यादा मिक्स वेरिएशन करके बॉल डालोगे उतना ही अच्छा होगा. और मैं और भज्जु पा वही कोशिश कर रहे थे.'' 

मैच का गेम चेंजिंग प्वाइंट क्या था? इस पर जडेजा ने कहा, ''मेरे ख्याल से विराट का विकेट सबसे अहम था और इसके साथ एबी डिविलियर्स का विकेट भी बहुत महत्वपूर्ण रहा. क्योंकि सब जानते हैं कि भले ही 3-4 विकेट गिर जाएं लेकिन वो अपना गेम चेंज नहीं करते हैं. और स्कोर बोर्ड पर एक बड़ा चेजिंग स्कोर खड़ा कर देते. बस वहां से हम लोगों का मूमेंट्म अच्छा बन गया था. उसके बाद किसी भी खिलाड़ी के साथ अच्छी पार्टनरशिप नहीं बन पाई बस वहीं से गेम चेंजर था.'' 

रवींद्र जडेजा ने आगे कहा, ''हम लोगों का एक ही मोटिव रहता है कि भले ही हम हारे या जीतें कभी एक-दूसरे पर आरोप नहीं लगाना है. जीते भी तो हम टीम की तरह और हारे भी तो टीम की तरह और माही भाई हमेशा बोलते हैं कि हम जीतेंगे भी साथ में और हारेंगे भी साथ में.''

चेन्नई के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए बेंगलुरु के बल्लेबाजों को 20 ओवर में 9 विकेट के नुकसान पर 127 रन पर ही रोक दिया. इसके बाद चेन्नई के बल्लेबाजों ने इस आसान टारगेट को 18 ओवर में 4 विकेट के नुकसान पर ही हासिल कर लिया था. रवींद्र जडेजा ने 4 ओवर में 18 रन देकर 3 विकेट हासिल किए. 



Reported By:Admin
Indian news TV