State News 

पश्चिमी राजस्थान का महाकुम्भ भरेगा तारातरा में - गादीपति प्रतापपुरी महाराज

बाड़मेर- 
पहली बार पश्चिमी राजस्थान में इतने बड़े स्तर पर धार्मिक आयोजन किया जाएगा जिसमे हर जाति, धर्म, सम्प्रदाय के लोग शामिल होंगे. इस आयोजन को सफल बनाने के लिए पूरे देश भर से लोग पांच दिन तक यहाँ रहकर सेवाएँ देंगे और इस आयोजन के पश्चात कई नए प्रकल्प भी शुरू होंगे जो समाज में मिसाल के रूप में जाने जायेंगे. ये बात तारातरा मठ के महंत स्वामी प्रतापपुरी महाराज ने तारातरा मठ में आगामी 13 फरवरी से 18 फरवरी में आयोजित होने वाले कार्यक्रम की जानकारी देने के उद्देश्य से आयोजित प्रेसवार्ता में कही। 
 
पत्रकार वार्ता में बोलते हुए तारातरा मठ के गादीपति महंत प्रतापपुरी महाराज ने कहा कि तारातरा मठ अलौकिक चमत्कारों की धरती रही है। यहाँ दिव्य पुरुषों ने अवतरण लिया और इस कलयुग में साक्षात चमत्कार किए। इंसान हैवानियत और दानवी प्रवृति को छोड़ मानव मात्र के कल्याण मे काम करें। मठ का उद्देश्य नशा मुक्त और संस्कार युक्त समाज का निर्माण करना है 
 
उन्होने कहा कि थार की पुण्य धरा पर संत मोहनपुरी महाराज के तपोस्थल तारातरा में आगामी 13 फरवरी से 17 फरवरी तक आयोजित मोहनपुरी महाराज का भंडारा महोत्सव और मूर्ति प्राणप्रतिष्ठा के होने वाले कार्यक्रमों मे प्रथम दिवस यानी 13 फरवरी को आईमाता मन्दिर के माधोसिंह दीवान (बिलाड़ा), अर्बुदांचल अरावली के महान तपस्वी चन्दनगिरी महाराज, कई जनप्रतिनिधि और समाजसेवी शामिल होंगे.
 
राजस्थान के इतिहास का संतो का सबसे बड़ा महाकुंभ होगा ये कार्यक्रम 
 
उन्होने कहा कि पश्चिम राजस्थान के इतिहास का ये सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन होने जा रहा है। जूनाअखाड़ा आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंदगिरी महाराज,योग ऋषि बाबा रामदेव, इन्द्रेश कुमार आरएसएस सहित देश भर के संत महात्मा और राजनीतिक हस्तियां शिरकत करेगी। जिसको सफल बनाना हम सब की जिम्मेदारी है।  कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए स्थानीय लोगो के साथ प्रवासी लोगो ने तन, मन, धन से सहयोग किया है। इस पांच दिवसीय आयोजन में लगभग 5 लाख से अधिक श्रद्धालु भाग लेकर संतो के दर्शनों का लाभ लेंगे।
 
राजनीतिक हस्तियाँ करेंगी शिरकत
 
कार्यक्रम में बिहार के राज्यपाल सतपाल मलिक शिरकत करेंगे। वहीं उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ औऱ राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के आने की जानकारी देते हुए कहा कि अभी तक किसी तय दिन की जानकारी नही मिली है लेकिन, पांच दिवसीय कार्यक्रम में किसी भी दिन वो भी इस कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। कार्यक्रम की जानकारी देते हुए कहा कि 13 फरवरी को आबुराज के चन्दनगिरी महाराज विधिवत रूप से कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे और रात्रि जागरण का आयोजन होगा। जिसमें शिव महिमा सुनाई जाएगी। 13 फरवरी से 15 फरवरी तक नानी बाई का मायरो कथा का आयोजन होगा। 14 फरवरी रात्री जागरण का आयोजन होगा जिसमे बाड़मेर-जैसलमेर के कलाकार व कवि लोककला और कविता का संगम करेंगे।  सभी को खुला मंच मिलेगा। 15 फरवरी को संत महात्माओं का आना प्रारंभ होगा। हजारो की संख्या में नागा बाबा तारातरा मठ में आएंगे।
 
विशाल भजन संध्या मे शिरकत करेंगे राजस्थान के प्रसिद्ध भजन गायक 
 
16 फरवरी को कलश यात्रा और भजन संध्या का आयोजन होगा। जिसमे राजस्थान के प्रसिद्ध भजन गायक मोइनूद्दीन मनचला, प्रकाश माली, कुश बाहरठ, नवरत्नसिंह रावल भजनों की प्रस्तुतियाँ देंगे साथ ही भक्ति संध्या के दौरान बोलिया लगाई जाएगी। 
 
17 फरवरी को होगी प्राण प्रतिष्ठा 
 
17 फरवरी को मोहनपुरी महाराज की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी। जिसमे बाड़मेर के विद्वान पंडितो द्वारा विधिविधान के साथ मूर्ति को विराजमान किया जाएगा।  प्रतापपुरी ने कहा कि इस आयोजन को सफल बनाने के लिए जो धन संग्रह किया गया है। कार्यक्रम समाप्ति के बाद जो भी धन बचेगा। उससे तारातरा मठ में एक छात्रावास का संचालन होगा। एक आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सालय का निर्माण एवं माउंट आबू में धर्मशाला का निर्माण होगा।



Reported By:Admin
Indian news TV