National News 

राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा का लोकसभा में जवाब देंगे पीएम, अहम विधेयक पेश कर सकती है सरकार

नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर लोकसभा में चर्चा का आज जवाब दे सकते हैं. भाजपा सूत्रों ने यह जानकारी दी. राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर सदन में मंगलवार को चर्चा की शुरूआत हुई थी. प्रधानमंत्री के जवाब के बाद प्रस्ताव को सदन में पारित कराया जाएगा, जहां भाजपा नीत सरकार को बहुमत है.

सभी भाजपा सांसदों को सदन में रहने के लिए व्हिप जारी
भाजपा ने अपने सदस्यों के लिए आज सदन में मौजूद रहने का व्हिप जारी किया है. सूत्रों ने बताया कि सरकार गुरूवार को कुछ महत्वपूर्ण विधेयक पेश कर सकती है. इस दौरान प्रधानमंत्री सरकार के बजट समेत तमाम नीतियों पर बयान दे सकते हैं. कहा जा रहा है कि राष्ट्रपति के अभिभाषण में आए 'एक राष्ट्र- एक चुनाव' पर खासा जोर रहने की भी उम्मीद है. इसके अलावा लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान गृहमंत्री राजनाथ सिंह गृह मंत्रालय से जुड़े सवालों का जवाब भी देंगे.

 

कल संसद के दोनों सदनों में विपक्ष ने जमकर हंगामा हुआ
उल्‍लेखनीय है कि कल संसद के दोनों सदनों में विपक्ष ने जमकर हंगामा किया था. राज्यसभा में मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसदों ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी द्वारा राज्य के कामकाज में कथित हस्तक्षेप को लेकर दिए गए अपने स्थगन नोटिस को सभापति द्वारा नामंजूर करने पर जोरदार हंगामा किया. सभापति एम. वेंकैया नायडू ने सदन की कार्यवाही में व्यवधान उत्पन्न किए जाने के कारण कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी. जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू हुई, सभापति एम वेंकैया नायडू ने महत्वपूर्ण विधायी कामकाज पूरा किया और टीएमसी, तेदेपा और अकाली दल द्वारा दिए गए कई नोटिसों को खारिज कर दिया.

टीएमसी और तदेपा सांसदों ने संसद परिसर में विरोध-प्रदर्शन
टीएमसी का नोटिस खारिज किए जाने के बाद पार्टी सांसद डेरेक ओब्रायन ने इस कदम का विरोध किया. उन्हें यह कहते हुए सुना गया कि एक राज्यपाल निर्वाचित सरकार के कामकाज में हस्तक्षेप कैसे कर सकते हैं? उन्हें हाथ में कागज पकड़े और यह कहते हुए सुना गया कि वह राज्यपाल के पत्र को सदन के पटल पर रखना चाहते हैं. हालांकि, अभी यह पता नहीं चल पाया है कि इस पत्र में क्या लिखा है. नायडू ने टीएमसी नेता से राज्यपाल का मुद्दा सदन में नहीं उठाने को कहा, लेकिन डेरेक ओब्रायन ने इस आग्रह को अनसुना कर दिया. उन्होंने कहा, "आप सदन को चलने देना नहीं चाहते. मैं सदन को स्थगित करूंगा. मैं सदन की कार्यवाही दो बजे तक स्थगित कर रहा हूं". सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले टीएमसी और तदेपा सांसदों ने संसद परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास विरोध प्रदर्शन किया. टीएमसी के सांसद पेट्रोल और डीजल की बढ़ी कीमतों को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे, जबकि तेदेपा सांसद बजट में केंद्र सरकार के आंध्र प्रदेश के साथ कथित भेदभाव को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे.



Reported By:News Editor
Indian news TV