International News 

कोरिया प्रायद्वीप में शांति की पहल, उत्तर कोरिया ने ओलंपिक में शामिल होने का रखा प्रस्ताव

सोल: उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार कार्यक्रम को लेकर पिछले कुछ महीनों से जारी तनाव के बीच उत्तर और दक्षिण कोरिया ने दो साल से अधिक समय बाद मंगलवार (9 जनवरी) को अपनी पहली आधिकारिक वार्ता की जिसमें उत्तर कोरिया ने आगामी शीतकालीन ओलंपिक में एथलीट और एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भेजने का प्रस्ताव रखा. दक्षिण कोरिया ने खेलों के आयोजन के समय ही उन परिवारों का पुनर्मिलन आयोजित किए जाने की अपील की जो 1950-53 कोरियाई युद्ध के कारण अलग हो गए थे.

प्रायद्वीप को विभाजित करने वाले विसैन्यीकृत क्षेत्र में स्थित संघर्ष विराम गांव पनमुनजोम में दोनो देशों के बीच बातचीत हुई. उत्तर कोरिया का समूह सैन्य सीमांकन रेखा पर चलकर दक्षिण कोरिया स्थित पीस हाउस परिसर पहुंचा. दक्षिण कोरिया के एकीकरण मंत्री चो म्योंग ग्यों और उत्तर कोरिया के मुख्य प्रतिनिधि री सोन ग्वोन ने ‘पीस हाउस’ के प्रवेश पर और बाद में वार्ता की मेज पर एक दूसरे से हाथ मिलाया. उत्तर कोरिया की मानक परंपरा के अनुसार री ने अपने कोट के कॉलर के बाईं ओर एक बैज लगा रखा था जिस पर देश के संस्थापक किम इल सुंग और उनके बेटे किम जोंग इल की तस्वीर थी. चो ने भी दक्षिण कोरिया के झंडे वाला बैज लगा रखा था.

दक्षिण कोरिया के उप एकीकरण मंत्री चुन हाए सुंग ने संवाददाताओं को बताया कि उत्तर कोरिया के अपने एथलीटों के अलावा एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल, समर्थकों, कलाकारों और तायक्वांडो टीम को खेलों में भेजने का प्रस्ताव रखा है. उन्होंने बताया कि दक्षिण कोरिया ने दोनों पक्षों के उद्घाटन समारोह में एक साथ मार्च करने का सुझाव रखा और परिवारों के पुनर्मिलन के पुनरारंभ की अपील के अलावा ‘‘अनावश्यक संघर्षों’’ को रोकने के लिए सैन्य वार्ता एवं रेड क्रॉस वार्ता का भी अनुरोध किया.

उत्तर कोरिया के री ने कहा, ‘‘आइए लोगों को नववर्ष का कीमती तोहफा दें.’’ इस बैठक में माहौल पिछली बैठकों के मुकाबले अधिक मित्रवत था और चो ने री को बताया कि दक्षिण कोरिया का मानना है कि ‘‘दुनिया भर के अन्य मेहमानों के साथ उत्तर कोरिया से आए अतिथि इसका हिस्सा होंगे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘लोगों की यह प्रबल इच्छा है कि वे उत्तर और दक्षिण कोरिया को शांति एवं सुलह की राह पर आगे बढ़ते देखें.’’ दोनों देशों का यह रुख पिछले महीनों में हुई बयानबाजी से काफी अलग है.

पिछले कुछ समय में किम और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक दूसरे के खिलाफ बयान दिए हैं. उत्तर कोरिया ने अमेरिकी मुख्यभूमि तक पहुंचने में सक्षम मिसाइलों का प्रक्षेपण किया था और अब तक का सबसे शक्तिशाली एवं छठा परमाणु परीक्षण किया था. उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने नववर्ष के अपने भाषण में संकेत दिया था कि उनका देश शीतकालीन खेलों में भाग ले सकता है जिसके बाद दक्षिण कोरिया ने उच्च स्तरीय वार्ता का प्रस्ताव पेश किया था. दोनों पड़ोसी देशों के बीच पिछले दो वर्ष से बंद हॉटलाइन पिछले सप्ताह फिर से चालू की गई.

जिन मामलों पर अभी सहमति बननी बाकी है, उनमें उद्घाटन एवं समापन समारोहों में संयुक्त प्रवेश, प्रतिनिधिमंडल का आकार और उसके ठहरने की व्यवस्था जैसे कई मामले शामिल हैं. ऐसी संभावना है कि इन सदस्यों के ठहरने के लिए भुगतान दक्षिण कोरिया ही करेगा. शीतकालीन खेलों के लिए उत्तर कोरिया के केवल दो खिलाड़ियों ने क्वालीफाई किया है, लेकिन दक्षिण कोरिया में पूर्ववर्ती तीन अंतरराष्ट्रीय खेल समारोहों में उत्तर कोरिया की सैकड़ों युवा चीयरलीडर्स चर्चा का विषय रहीं थी.

ऐसी संभावना है कि यह समूह ओलंपिक परिसर से करीब एक घंटे की दूरी पर स्थित सोक्चो में एक क्रूज जहाज में ठहरेगा. दक्षिण कोरिया की रिपोर्टों के अनुसार टीम के साथ आने वाले उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल में किम की छोटी बहन यो जोंग शामिल हो सकती हैं. यो जोंग सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की वरिष्ठ सदस्य हैं.



Reported By:Admin
Indian news TV